Halaman

    Social Items

Sad shayari

 १)   शायद मैं नहीं था काबिल

            इसीलिए तूने मुझे छोड़ दिया

मेरी तरफ दो कदम बढ़ाएं

            फिर तूने वापिस मोड़ लिया

जब पूछा दिल से किसके लिए  इतना तड़पता है तू

     तो इस बेचारे ने भी बस इशारा तेरी ही ओर किया।


२)सुनले मेरे दिल की तू ये हसरत

तेरे लिए ही बस करता ये हरकत

कहो तो जां भी दे दू तेरे लिए

इतनी करती है सनम हम आपसे मोहब्ब्त।

३) वो आशिकी आशिकी ही क्या जिसमें अश्क ना हो,

वो शायरी शायरी ही क्या जिसमें आपके लिए दो लफ्ज़ ना हो

तेरे बिना अब मुश्किल है रहना इस जहां में

क्यूंकि वो जिंदगी जीना ही किया जिसमें आपके लिए मेरे पास वक़्त ना हो।


Rishant Kumar

No comments