Halaman

    Social Items

Mere Naseeb me pyaar. Nhi hai Hindi sad shayari

मुझे डर है तुम मुझे छोड़ ना दो

दिल मेरा तुम यूं तोड़ ना दो

पता नहीं मुझ पर किसी का ऐतबार नहीं है

लगता है मेरे नसीब में प्यार नहीं है।


मेरे जिंदगी के पन्ने में सिर्फ उसका है नाम है

ये दिल सिर्फ उसके लिए ही बदनाम है

लेकिन मेरा अब कोई करता इंतज़ार नहीं है

लगता है मेरे नसीब में प्यार नहीं है।


हम तो बस उनकी  ही पूजा करते है

उसके सिवा ना कोई काम दूजा करते है

पता नहीं क्या शिकवा है उनको मुझसे

जो मुझे छोड़ हर किसी की हुआ करते है

मेरे बारे में सोचा उन्होंने एक बार भी नहीं है

लगता है मेरे नसीब में प्यार नहीं है।


मुझे ना चाहे क्या मैं इतना बुरा हुं

उन्हें क्या पता उनके लिए हर पल मैं रो रहा हूं

मैं तो साये की तरह उनके साथ हूं हर पल

क्या थी वजह जो वो इतने गए बदल

अब जीने के लिए मेरे ये संसार नहीं है

लगता है मेरे नसीब में कभी प्यार नहीं है।

Rishant




No comments